रविवार, अक्तूबर 03, 2010

सात फटकार: खलील जिब्रान

(अनुवाद बी.एस. त्यागी)

मैंने अपनी आत्मा को सात बार फटकार लगायी
पहली बार - उस समय जब कमजोर लोगों का शोषण कर
स्वयं को प्रतिष्ठित करने का प्रयास किया
दूसरी बार - जब मैंने उन तमाम लोगों के सामने पंगु होने का स्वांग किया
जो सचमुच पंगु थे
तीसरी बार - जब मुझे चयन करने का अवसर मिला
और कठिन को छोड़कर सरल को अपना लिया
चैथी बार - जब मैंने गलती की और दूसरों की गलती से
स्वयं को सांत्वना दी
पाँचवीं बार - जब मैं भय के कारण विनम्र हो गया था
और दावा किया था धैर्यवान होने का
छठी बार - जब कीचड़ से बचने के लिए मैंने
अपना लबादा ऊपर उठा लिया था
सातवीं बार - जब मैं प्रार्थना की पुस्तक लेकर
ईश्वर के सामने आ खड़ा हुआ और प्रार्थनागान को ही महान गुण समझ बैठा।

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत-बहुत धन्यवाद, इतनी अच्छी बात बताने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्‍छी कविता और अनुवाद भी बढ़िया है।
    दूसरी पंक्ति में 'लोगों को शोषण' की जगह शायद 'लोगों का शोषण' होना चाहिए था। कृपया चेक कर लें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह गलतियों की प्रार्थना है। हम सब को भी इसे रोज बांचना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं