गुरुवार, नवंबर 05, 2020

 विज्ञान व्रत का नया ग़ज़ल संचयन  प्रकाशित 

जुगनू ही दीवाने निकले

अंधियारा झुठलाने निकले
ऊंचे लोग सयाने निकले
महलों में तहख़ाने निकले
में तो सबकी ही जड़ में था
किसके ठीक निशाने निकले
हाथ समझकर पकड़ा जिनको
वो केवल दस्ताने निकले
सभी मित्रों, शुभचिंतकों को यह सूचित करते हुए अपार हर्ष हो रहा है कि हमारे सहज प्रकाशन से प्रकाशित विज्ञान व्रत का ग़ज़ल संचयन
'मेरे वापस आने तक' अब उपलब्ध है। 200₹ मूल्य का यह संचयन प्रकाशक से सीधे मँगवाने पर विशेष छूट के साथ यह Rs. 175 (डाक खर्च सहित) उपलब्ध है। 9760344345 पर paytm करके इसे मँगवा सकते हैं।
यह किताब अमेज़न पर भी उपलब्ध है -
https://l.facebook.com/l.php?u=https%3A%2F%2Fwww.amazon.in%2Fdp%2F8193956257%2Fref%3Dcm_sw_em_r_mt_dp_M1.NFbNQBH4TK%3Ffbclid%3DIwAR34P6_kfKv8wIg3nWzB9i7HqThz4dEGaY7EkavgxJqtxqmkNAPSVwIc354&h=AT2V90tHrPqGNmMtYXUQ8ciBQHJ0KtzTyUR4gKtaOaeUybAnlZ8FAsfzsD8znsyoKWG0XGdeGLrLTBSk_VN44RDZIqQqbMfPO89WAy9CJVgwpNjfZtgrr_TJUCHfMxEDDPg&__tn__=%2CmH-R&c[0]=AT3jqz0iE3CcwtmzrHoaZUDfeSxtwrbD12156sXdsTc7FgBlSQbOD6bjUXEucrwFeiT3hcP-a0AKTdkc3yXN9YGud0UwkzyvGXFUOfzrZzfwdZn8yVq5KATUUUneV4fUESVbE9DzFJMsdtYb1LUP89m9cQ

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें